सपनो का टूटना जारी रहा- मेरा कोरोना वर्ष अनुभव 50

sakhi talk आ सखी चुगली करें

#कोरोना अनुभव #
जितनी शिद्दत से तेरा इन्तजार किया
उतना ही तुने हमे रुलाया
2020 का हम बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे क्योंकि इस साल मेरी मम्मा और पापा की शादी की 50वीं सालगिरह है और मेरे जेठ जेथानी की 25वीं सालगिरह है ।हमने बहुत सी तैयारियाँ कर रखी है पर इस कोरोना ने हमारे सारे सपनों पर पानी फेर दिया।इस महामारी की विभिसिका ने समस्त विश्व को अपनी चपेट में ले लिया है ।चारो तरफ सिर्फ डर और भय का माहौल है।ऐसे समय में संयम और समझदारी से ही हम स्वयं भी बच सकते हैं और साथ ही साथ दूसरो को भी बचा सकते हैं ।हमे सरकार द्वारा बताये गये सभी निर्देश का पालन करना चाहिए और साथ ही दूसरो को भी समझाना चाहिए ।यह समय मुस्किल ज़रूर है पर हम सब साथ मिलकर इस समय को भी बिता देंगे और विजयी होंगे ।
मै रीता,बिहार के पटना शहर में अपने पति और दो बच्चों के साथ रहती हूँ ।मै ऑल इंडिया रेडियो,पटना मे उदघोषिका हूँ और मेरे पति ऑल इंडिया रेडियो में इंजीनियर हैं ।होली के समय से ही कोरोना ने सभी के जीवन को प्रभावित करना शुरू कर दिया था ।मेरे बेटे के फाइनल एग्ज़ाम हो गये थे बस रिजल्ट का इन्तजार था की तभी लॉक डाउन हो गया ।हम ड्यूटी जा रहे थे पर कम क्योंकि सरकारी कर्मचारी को 33% ही हज़िरी थी।मैड को हता दिया था और सभी काम स्वयं ही कर रहे थे ।यू ट्यूब से देखकर तरह तरह की व्यंजन बनाये ।उस समय हमारे शहर में कम केस थे।पर न्यूज़ में कोरोना की दिन बा दिन बढती संख्या परेशान कर रही थी ।साथ ही साथ मजदूरो का पलायन,उनकी स्थिति देखकर बहुत दुख होता था।वाहेगुरु से हर पल सबके दुख दूर करने की अर्दास करते है ।लॉक डाउन के बाद उन लॉक मे कुछ लोगो ने निर्देशो का पालन न्ही किया ।लोगो ने कोरोना को गम्भीरता से न्ही लिया।कोरोना अपने पैर पसारता गया और आज स्थिति पहले से भी भयावह हो गई ।पटना और हमारे देश के कई शहरों में एक बार फिर से लॉक डाउन हो गया है ।यही समय है हम अब भी सचेत हो जाएं,निर्देशों का सही से पालन करे,अपने देश,समाज को सुरक्षित रखें ।इसके साथ ही अगर कोई विपरीत परिस्थिति आ भी जाएं तो भी हमें साहस और हौसला रखकर उस परिस्थिति का मुकाबला करे तो हमें विजयी होने से कोई नहीं रोक सकता है ।इस ग्रुप से जुड़ कर मुझे बहुत अच्छा लगा ।इसके लिये मै अपनी दोस्त पूनम पांडे का धन्यवाद करती हूँ ।ईश्वर से यही प्रार्थना है कि हम सब इसी तरह जुडे रहकर इस विपत्ति का साहस केसाथ सामना करे और सुरक्षित रहे।मेरी सभी सखियाँ और उनका परिवार सुरक्षित रहे इसी कामना के साथ

लेखिका – रीता नेगी