धर्म-अध्‍यात्‍म

indian panchand xmas and yeshu

बड़ा दिन, ईसा मसीह और भारतीय पंंचांग

ज्योतिष में दिन-मास-वर्ष में कोई सरल अनुपात नहीं है और यह बदलता रहता है। अतः समय के शुद्ध निर्धारण के लिये भारतीय पञ्चाङ्ग में...

इंटरनेट और परमपिता परमात्‍मा

अभी किसी से आत्‍मा और परमात्‍मा के संबंध पर बात हो रही थी। वहीं मुझसे किसी ने पूछा कि आपका ब्‍लॉग काम कैसे करता...
bhartiya kaal भारतीय काल गणना

भारत की काल गणना

भारत में देश-काल की गणना कई प्रकार की थी तथा बहुत सूक्ष्म थी। आज भी काल का अर्थ तथा उसकी माप रहस्यमय है। भारत...
Types of durga saptshati

दुर्गा सप्‍तशती के विलक्षण स्‍वरूप

"स्तोत्र पाठ क्या है? बस कुछ ऐसा मामला है ज्यों प्रियतम से प्रियतम की बातें करनी हैं। उसमे भाषा उनकी (प्रियतम) की रहेगी भाव...
Maa sarswati

सरस्वती वन्दना

यह चिद्गगन-चन्द्रिका के लेखक कालिदास (सप्तम सदी) की रचना है। यहां कवि ने अपनी पदवी कालिदास कही है तथा साधना स्थान पूर्णपीठ (महाराष्ट्र के...

स्‍वतंत्रता की संभावना – भाग तीन

ईश्‍वरवादी धर्मों में स्‍वतंत्रता की संभावना ईश्‍वरवादी धर्म वे हैं जो वेदों को मानते हैं। यह दर्शन विषय की भाषा है। ईश्‍वर की व्‍यु‍त्‍पत्ति कुछ...
meaning of shak

शक के अर्थ एवं मन्त्रों के प्रसंग – जाति, द्वीप, ब्राह्मण, वर्ष

शक के विभिन्न अर्थ-मन्त्रों के प्रसंग (संस्था) या विनियोग के अनुसार अर्थ होंगे। शक सम्बन्धी मुख्य अर्थ नीचे दिये जाते हैं- १. शक-शकाः सचन्ते समवायेन...

स्‍वतंत्रता की संभावनाएं- भाग एक

जन्‍म-मृत्‍यु के चक्र को नियति मान भी लिया जाए तो मोक्ष मनुष्‍य की इच्‍छा स्‍वातंत्रय (freedom of will) का परिचायक है। कपिल मुनि ने...

स्‍वतंत्रता की संभावना – भाग दो

व्‍यवस्‍था बिगाडती है ऑरेकलमुझे बताने पर याद आया कि मैट्रिक्‍स का पूरा किस्‍सा लिख दिया और ऑरेकल को भूल गया। मैमोरी एक्‍सपर्ट्स तो कहते...
infinite in vedas

वेदों में अनंत की व्‍याख्‍या

वेद में 4 प्रकार के अनन्तों की चर्चा है 1 वेदों के ३ अनन्त-भरद्वाजो ह वै त्रिभिरायुर्भिर्ब्रह्मचर्य्यमुवास। तं ह जीर्णि स्थविरं शयानं इन्द्र उपब्रज्य उवाच।...

अधुनातन लेख