धर्म-अध्‍यात्‍म

bhartiya kaal भारतीय काल गणना

भारत की काल गणना

भारत में देश-काल की गणना कई प्रकार की थी तथा बहुत सूक्ष्म थी। आज भी काल का अर्थ तथा उसकी माप रहस्यमय है। भारत...

स्‍वतंत्रता की संभावनाएं

जन्‍म-मृत्‍यु के चक्र को नियति मान भी लिया जाए तो मोक्ष मनुष्‍य की इच्‍छा स्‍वातंत्रय (freedom of will) का परिचायक है। ऐसे में स्‍वतंत्रता...
guru shishya

गुरु के बारे में… कुछ

गुरु, शिक्षक, पथ प्रदर्शक और ऐसे ही सैकड़ों नाम उस इंसान को दिए गए हैं जो हमारी जिंदगी का मार्ग प्रशस्‍त करता है। एक...
Chanderi Jauhar Smarak Padmavat and hindu sentiments

पद्मावत और हिंदू मानस

बहुत छोटे थे जब पिताजी ने हमको रनजीत देसाई की पेशवामाधवराव पर लिखी पुस्तक " स्वामी"पढ़ने दी उसमे बिलकुल अंत मे जब माधवराव पेशवा...
Surya Yantra Shreenath udoop

सूर्य जगत की आत्मा है

उद्वयं तमसस्परि सवः पश्यन्त उत्तरम्। देवं देवत्रा सूर्यमगन्म ज्योतिरूत्तमम्।। "हम अंधकार से ऊपर आकर देवताओं और उनके लोकों में अत्यंत विलक्षण सूर्य को देखते हुये सर्वोत्कृष्ट...
gates of somnath

सोमनाथ केे दरवाजों पर विवाद

सोशल मीडिया पर किसी ने आगरा किले रखे उन दरवाजो की तस्‍वीर पोस्ट की जिनको अंग्रेज 1844 के अफगान युद्ध में गजनी की टूटी...
Shree Yantra Raj Meru at Vidhyanchal

300 वर्ष प्राचीन शिलामयी श्री यंत्रराज मेरू

विंध्याचल तीर्थ मे विंध्यवासिनी वनदूर्गा, अष्टभुजा योगमाया और कालीखोह की चामुंडा के त्रिकोण के अंतर्गत भैरव कुंड जो उन्नीसवीं शताब्दि के महान आगमाचार्य और...
Types of durga saptshati

दुर्गा सप्‍तशती के विलक्षण स्‍वरूप

"स्तोत्र पाठ क्या है? बस कुछ ऐसा मामला है ज्यों प्रियतम से प्रियतम की बातें करनी हैं। उसमे भाषा उनकी (प्रियतम) की रहेगी भाव...
Maa sarswati

सरस्वती वन्दना

यह चिद्गगन-चन्द्रिका के लेखक कालिदास (सप्तम सदी) की रचना है। यहां कवि ने अपनी पदवी कालिदास कही है तथा साधना स्थान पूर्णपीठ (महाराष्ट्र के...
infinite in vedas

वेदों में अनंत की व्‍याख्‍या

वेद में 4 प्रकार के अनन्तों की चर्चा है 1 वेदों के ३ अनन्त-भरद्वाजो ह वै त्रिभिरायुर्भिर्ब्रह्मचर्य्यमुवास। तं ह जीर्णि स्थविरं शयानं इन्द्र उपब्रज्य उवाच।...

अधुनातन लेख